राजीव गाँधी जी की 75वी जयंती |

आज हमारे देश के 9वे प्रधान मंत्री राजीव गाँधी जी की 75वी जयंती हैं| राजीव गाँधी जी का जन्म 20 August 1944 को उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद में हुआ था|

राजीव गाँधी जी का राजनितिक सफ़र बहुत ही दिलचस्प है , 1984 में उस समय की तत्कालीन प्रधान मंत्री इंद्रा गाँधी की उनके ही अंगरक्षक के द्वारा हत्या कर दि गयी थी जिसके बाद भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का नेतृत्व करते हुए 508 सीटो में से 401 सीट जीतकर भारी बहुमत के साथ October 31, 1984 को देश के 9th Prime Minister बने|

राजीव गाँधी जी अपने राजनितिक जीवन से पहले एक Pilot थे और वो Air India के लिए काम करते थे , 1970 में उन्होंने एयर इंडिया ज्वाइन किये थे |राजीव गाँधी के छोटे भाई संजय गाँधी की मौत 23 June 1980 को एक हवाई दुर्घटना में हो गयी|

Fathers Day 2019: Honour Your Father

दरअसल राजीव गाँधी जी को राजनीती में आने की कभी इच्छा ही नहीं थी, वह एक पायलट थे और एयर इंडिया में ही काम करते रहना चाह्ते थे लेकिन भाई संजय गाँधी की मृत्यु के बाद सबकुछ बदल गया, कांग्रेस के लोग उन्हें इंद्रा गाँधी के सहयोगी बनने के लिए प्रोत्साहित करने लगे , अंत में उन्हें राजनीती में प्रवेश करना पड़ा और उनके भाई की मौत की वजह से खाली पड़ी लोकसभा सीट अमेटी से उप चुनाव पहली बार लरे और जीतकर पली बार संसद भवन पहुचे|

पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम गिरफ्तार|

राजीव गाँधी की मुलाकात सोनिया गाँधी से Cambridge University में पढाई के दौरान हुई थी, सोनिया गाँधी इटली से थी और इंग्लिश की पढाई कर रही थी| आगे चलकर राजीव गाँधी ने 1968 में सोनिया गाँधी से शादी कर ली |राजीव गाँधी के दो बच्चे है राहुल गाँधी और प्रियंका गाँधी|

Yuvraj Singh

सोनिया गाँधी का असल नाम अंटोनिया माइनो था लेकिन राजीव गाँधी से शादी के बाद उन्होंने अपना नाम बदल कर सोनिया गाँधी रख लिया|

राजीव गाँधी के पुत्र राहुल गाँधी हाल ही में कांग्रेस के अध्यक्ष पद संभालते हुए कांग्रेस को चला रहे हैं , हालाकि अब कांग्रेस उतनी मजबूत नहीं है जैसा की राजीव गाँधी के समय में हुआ करती थी , पिछले दो लोकसभा चुनाव में बहुत ही बुरी हार का सामना कांग्रेस को करना पड़ा है | 2019 लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद राहुल गाँधी ने अध्यक्ष पद से इस्थ्पा दे दिया ,इसके बाद फिर से सोनिया गांधी अध्यक्ष पद की कमान संभाल रही हैं|

राजीव गाँधी की मृत्यु 21 may, 1991 को केवल 46 साल की उम्र में श्रीलंका के उग्रवादियों द्वारा एक बम बिस्पोट में कर दी गयी जब वो चुनाव प्रचार करने तमिलनाडु गए हुए थे |

Leave a Reply

Your email address will not be published.

दिल्ली में बाढ़ का खतरा 40 साल बाद|

जम्मू – कश्मीर से आर्टिकल 370 हटने के बाद पकिस्तानी ने किया सीज फायर का उलंघन |