अरुण जेटली का देहांत 66वी की उम्र में |

अरुण जेटली का देहांत 66वी की उम्र में |

बीजेपी के सेर्बेश्रेष्ट नेता अरुण जेटली जी का निधन आज दोपहर 12.07 मिनट पर दिल्ली के एम्स में सांस लेने के तकलीफ से हो गई |

9 अगस्त को ही इनको दिल्ली के एम्स में सांस लेने में हुए दिक्कत के वजह से भर्ती करवाया गया था ,दिन पर दिन इनकी हालत बिगड़ती ही जा रही थी आज ये हमारे बीच नहीं रहे इन्होने केबल 66 साल की उम्र में अपनी जिंदगी की आखरी सांस लिऐ|

जीवन परिचय – अरुण जेटली जी का जन्म 28 दिसम्बर 1952 , नई दिल्ली में हुई थी | वकील महाराज किशन जेटली माता रतन प्रभा जेटली के पुत्र थे अरुण जेटली इनकी शिक्षा-दीक्षा दिल्ली में हुई थी प्रारंभिक शिक्षा सेंट जेवियर स्कूल में 1957 से 1969 तक किए उन्होंने कॉलेज 1957 में दिल्ली श्रीराम collage ऑफ़ कॉमर्स से बीकॉम किये ,1974 में दिल्ली विश्वविद्यालय के भी स्टूडेंट रहे इसके साथ ये यहाँ छात्र संगठन के अध्यक्ष भी रहे थे |

राजनीति जीवन –अरुण जेटली जी को राजनीतिक में कोई दिलचस्पी नहीं था ,वे बचपन से सीए बनना चाहते थे हालांकि वे छोटे से ही देश और समाज के उन्नति की चिंता करते थे वे कई बार कॉलेज के लीडर भी रहे है | उन्होंने अपने पिता जी का ही रास्ता अपनाया ,अरुण जेटली जी अपनी LLB की पढाई 1977 में पूरा किये इसके बाद 1990 में दिल्ली हाई कोर्ट के वरिष्ठ वकील नामित किये गए | ,अपने राजनीतिक जीवन में आने से पहले वे सुप्रीम कोर्ट में भी वकालत करते थे | 3 जून 2009 को इन्होने बीजेपी के पक्ष से राज्यसभा में विपक्ष दल के नेता के रूप में इनका कार्यकाल 2009 से 2014 तक रहा |

.2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में अरुण जेटली जी को 26 मई 2014 को वित्त मंत्री बनाये, साथ ही साथ उनको कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय की जिम्मेदारी भी दी गई थी |नोवेम्बर 2015 में जेटली जी ने ही कहा की मुश्लिमों के विवाह और तिन तलाक को नियंत्रित कर इसे एक कानून का रूप दे देना चाहिए इसे मौलिक आधिकारो के अधीन होना चाहिए |

अरुण जेटली हमारे देश के वित्त मंत्री रहे इस दौरान उन्होंने कई अनोखे कदम उठाएं जैसे कि, 9 अगस्त 2016 को भ्रष्टाचार, काला धन ,नकली मुद्रा इन सभी पर रोक लगाने के लिए उन्होंने 500 और 1000 के नोटों को बंद करवा दिया इसे अमुद्रा घोषित कर दिया ,यह एक एतिहासिक फैसला था ,जिसका असर पुरे देश के अर्थव्यवस्था पर हुआ |

अरुण जेटली जी इनको बचपन से अध्ययन करना ,लिखना बहुत पसंद था अतः इन्होंने कानून की कई पुस्तकें भी लिखी है क्योंकि इन्होंने कानून की पढ़ाई भी की थी और हमारे देश के अच्छे वकील भी रहे थे| ये पंजाबी ब्राह्मण अतः ये शाकाहारी भी थे | इनका विवाह 24 मई 1982 को संगीता जेटली जी के साथ दिल्ली में ही हुआ था इनके दो बच्चे भी हैं पुत्र का नाम- रोहन जेटली पुत्री का नाम -सोनाली जेटली है|

आज 24 अगस्त 2019 ,12 बजकर 7 मिनट अरुण जेटली जी एम्स में अपना आखरी सांस लिये |

Ganita Yadav

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *